Feeds:
पोस्ट
टिप्पणियाँ

Posts Tagged ‘आंसू’

अपने जब दूर जाते है


तो


बहुत दर्द देते है


पर


अपने जब पास रह कर


भी


दूरिया बना लेते है


तो


दिल में एक कसक


छोड़ जाते है



Read Full Post »

कल्पना की लकीरों से, तेरी एक तस्वीर बनाई है
जब भी देखती हूँ उसमे, तेरा ही अक्स नज़र आता है
किसी का उदास चेहरा उस, अजनबी फ़रिश्ते से देखा नही जाता
किसी कि भी आँखों में आंसू देख ,मदद को दोडा वो आता है


हर तरफ़ आग ही आग, मचा हाहाकार है
ऐसे माहौल में तू ,कैसे आराम फरमाता है
कल जब ये आग, तेरे घर तक पहुंच जायेगी
तब ही शायद जलन की पीड़ा को जान पायेगा


एक दिन  वो रब, सब ठीक कर देगा
ऐसी बातें कह कर तू, क्यों ख़ुद को बरगलाता  है
ख़ुद- ब -ख़ुद कुछ भी ठीक नही होता है
उस रब ने ये काम हमारे ही जिम्मे  छोडा है


Read Full Post »

इक सपना टूटा
आँख से आंसू बहा
कुछ देर तक दिल बेचैन रहा
उदास रहा
पर
फिर जैसे
ख़ुद-ब-खुद सब ठीक हो गया
इन आँखों ने फिर इक नया सपना बुना
पहले से भी सुंदर

सपनो का टूटना ,
बिखरना,
जुड़ना ,
टूट कर फ़िर से जुड़ना
यही तो ज़िन्दगी है

Read Full Post »

Image and video hosting by TinyPic

कहने को तो पानी का एक कतरा है पर

कितने ही जज्बातों का दरिया है



हर सपने को बड़े प्यार से आँखों में छुपा रखा था

आँख से आंसू बन के बहा जो, वही टुटा हुआ इक सपना है



बिन कहे मेरे दिल के हर जज्बात को बयां कर जाते है

खुशी हो या गम हर दम साथ निभाते है

लाख छुपाना चाहूं मैं

पर ये आंसू चुगली कर जाते है


Image and video hosting by TinyPic


हमने उन कि याद में रो रो के टब भर दिए

वो आए और नहा के चल दिए
(ये मेरा लिखा नही है)

Read Full Post »