Feeds:
पोस्ट
टिप्पणियाँ

Posts Tagged ‘मुंबई’

सरकार सोती रही
मीठे सपने में खोई रही
आंतकी धमाके करते रहे पर
वो स्वप्न निद्रा से न जागी
खुफिया एजेंसिया कान में
जोर जोर से चिल्लाती  रही
देश को खतरा है ,ये बताती रही
जयपुर गुजरात ,बंगलुरु ,दिल्ली में
धमाके होते रहे
पर सरकार नही जागी
उसके कान में तो जू तक न रेंगी
वो जागी तो कब ?
जब लोकसभा चुनावों में 6 महीने का वक्त था बाकी
जब मुंबई में हो गए थे युद्ध जैसे हालात
ऐसे समय में उसे अपनी कुर्सी डोलती नज़र आई
फिर अफरा तफरी में उसने ढेर सारे फैसले कर डाले
इस्तीफों की राजनीति कर दी  गई
आरोप परत्यारोप का दौर शुर हो गया
सरकार के लिए फैसलों का हश्र क्या होगा
सरकार की ये फुर्ती कब तक कायम रहती है
ये तो वक्त ही बताएगा
पर जो जिंदगिया बेवक्त इस दुनिया से चली गई
सरकार उनके परिवारों को क्या जवाब देगी

Advertisements

Read Full Post »

उन वीरो को नमन जिन्होंने उन आंतकवादियो से लोहा लेते हुए अपनी जान गवां दी है

मुंबई में ताज ,नरीमन हाउस ,सी एस टी और ओबरोये पर जो आंतकवादी हमले हुए ,वे सिर्फ़ मुम्बई नही ,बल्कि देश की आत्मा पर हुए है । यूँ तो उन आंतकवादियो को मार गिराया गया है। उन पर विजय कर ली है पर कुछ हद तक तो वो अपने खतरनाक इरादों में कामयाब हो ही गए । उन हमलो में लगभग 183 लोगो को अपनी जान गवानी पड़ी ,कितने ही लोग घायल हो गए ।3-4 दिन तक लोग सिर्फ़ ताज में ही बंधक नही बने बल्कि पुरी मुंबई ,पुरा देश उनका बंधक बना रहा।

हमारी सरकार के पास तो लगता है कि हमलो को रोकने कि न कोई नीती है ,और न ही इतना साहस कि वो बार बार हो रहे इन हमलो को रोक सके ।बस हर हमले के बाद बड़ी बड़ी बातें करना उसे आता है। इन हमलो में जिस तरह से विदेशियों को निशाना बनाया गया उससे अन्तरराष्टीय स्तर पर भारत की छवि को भी शती पहुंची है।

अब इन हमलो पर घटिया राजनीति का दौर शुरू हो गया है जो लोकसभा चुनावो तक तो चलेगा। गृहमंत्री जी ने इस्तीफा दे दिया है जो उन्हें बहुत पहले दे देना चाहिए था, वो तो शायद अब भी अपनी कुर्सी से चिपके रहते अगर अगले 6 महीनो में लोकसभा चुनाव न होते तो ।केन्द्र और राज्य सरकार में अगर आज कुछ हलचल हो रही है तो वो भी इसीलिए क्योंकि इस समय बहुत से राज्यों में विधानसभा चुनाव हो रहे है और अगले 6 महीनो में लोकसभा चुनाव भी होने है अगर इस समय चुनावो का मौसम न होता तो वो दिल्ली  धमाको की तरह आज भी हाथ पर हाथ धरे बैठी रहती और कोरी बयानबाजी से ही काम चलाती

एक बार फिर नमन उन वीरो को जिन्होंने हमारे लिए अपनी जान गवां दी

Read Full Post »