Feeds:
पोस्ट
टिप्पणियाँ

Posts Tagged ‘tum’

नजारा

दुनिया की भीड़ में खो गए, तुम कहाँ


हर पल नज़रे तुम्हे ही ढूंढती है


जानती है की तुम नही हो यहाँ, पर


फ़िर भी तुम्हारा ही नजारा ढूंढती है

Advertisements

Read Full Post »

जब आंखो मे सपने थे ,अरमान थे

तो तुम्हे तब भी एतराज था

आज जब हर सपना ,हर अरमान मर चुका है

तो तुम्हे अब भी एतराज है

तुम्हे ये हक किसने कब दिया

आज मुझे तुम्हारे इस हक पे एतराज है

Read Full Post »

तेरी इक नजर को तरसे है ये नैना
पर तू ना जाने कहाँ  गुम है।
ख्वाबो मे इक झलक दिखलाकर
फिर से ना जाने कहाँ  गुम है।
तुझसे ना दूर होंगे ऐसा तेरा वादा था
पर हर वादा भूलकर तू ना जाने कहाँ  गुम है ।

Read Full Post »

चोखट पर नजरे लगाए बैठे थे, इंतज़ार मे नजरे बिछाये बैठे थे
दरवाजे पर कोई दस्तक हुई , पर क्या ये तुम हो ।

सपनों मे रोज़ मिलते थे तुमसे ,दूर जाकर भी तुम दूर हो न पाए
दर पर मेरे खड़ा है कोई ,पर क्या यह तुम हो ।

नजर आती है चिथडो मे लिपटी काया , मुख पर सलवटे हजार
तुम तो ऐसे न थे ,पर क्या यह तुम हो ।

बरसों न जाने कहां रहे ,इक बार मेरी सुध तक न ली
मेरी सुध लेने आया हैं जो ,पर क्या ये तुम हो ।

छोड़ गए थे मुझे ,जाने किस आसरे
लौट कर आए जो तुम ,पर क्या ये तुम हो ।

Read Full Post »

गजल बन गई

हम तो आए थे आपसे, हाल ए िदल बयाँ करने
पर बातो ही बातो मे , गजल बन गई ।

जो िदल मे था, जबाँ से सब कह िदया
और शबदो ही शबदो मे, गजलबन गई ।

तुम िबना कुछ कहे, बस देखते ही रह गए
हमने आखो से आखो को िमलाया तो, गजल बन गई ।

तुमहारे कुछ कहे िबना, ये गजल अधूरी थी
पर जब तुमने कािफये से कािफये को िमलाया तो ,गजल बन गई ।

Read Full Post »

मुझे इंतजार है उस पल का
जब मेरी कलपनाएँ आकार लेंगी
जब तुम मेरे सामने होंगे
मै इंतजार करुँगी उस पल का

आज इस पल मे तुम मेरे पास नही हो
पर िफर भी लगता है मेरे हर कदम पे तुम मेरे साथ हो
मै तुमहे छू नही सकती
पर ये हवाएँ मुझे तुमहारे होने का अहसास करा जाती है

ये हवाएँ तुमहे भी तो छूती होंगी
तुमहे भी तो मेरा अहसास कराती होंंगी
मै इंतजार करुँगी उस पल का
जब ये अहसास तुमहे मेरी मेरे पास ले आएँगा
मै इंतजार करुँगी उस पल का
जब तुम मेरे सामने होंगे

Read Full Post »

आ अब लौट चले

आ अब लौट चले
िफर से उंही राहो पे
िजन पर कभी सफर िकया था
अतीत के गिलयारो मे ।

आज िफर इक मंिजल की तलाश है
इक नयी सुबह का इंतजार है
राह वही ह, मंिजल नयी है
मै वही हूँ, तुम वही हो
कारवाँ नया है ।

तुम साथ हो तो
हर सफर आसान हो जाएँगा
हर रासता छोटा हो जाएँगा
हर मंिजल को मै पा जाऊँगी
हर बाधा को मै पार हो जाऊँगी ।

Read Full Post »

Older Posts »